शहर की सड़कों पर आम लोगों का चलना हुआ दुभर, ठेले गुमचे वालों ने सड़कों की सूरत ही बिगाड़ डाली, रोज हो रही हैं घटना-दुर्घटनाएं, प्रशासन को नहीं पड़ रहा कोई फर्क……

 

 

शमरोज खान सूरजपुर

सूरजपुर। सड़क पर बेतरतीब खड़े वाहनों और ठेले गुमचे वालों ने तो न केवल शहर की सूरत बिगाड़ डाली है बल्कि लोगों के जान पर भी आफत बन बैठे हैं,बावजूद प्रशासन को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है।
शहर का मुख्य मार्ग जब चौड़ीकरण हुआ तो उसके बाद शहर की सुंदरता देखते ही बनती थी और लोग बड़े शान से आवागमन करते थे मगर धीरे-धीरे प्रशासन की उदासीन रवैया के कारण सड़क पर अतिक्रमण कर लोग अपना धंधा चमकाने लगे और अब ऐसा लगता है जैसे सड़क ही सिकुड़ गई है घटना दुर्घटनाएं तो यहां आम बात हो गई हैं। कलेक्ट्रेट से लेकर मेन रोड तक सड़क कहीं ठेले खोमचे वाले तो कहीं ऑटो टैक्सी या फिर बैंक व अन्य दफ्तरों के सामने बेतरतीब खड़ी दुपहिया चार पहिया वाहन खड़ी मिल जाएगी जिससे सड़क पर आसानी से आवागमन करना आम लोगों के लिए किसी मुसीबत से कम नहीं है पुराना बस स्टैंड के सामने की स्थिति तो ऐसी हो गई है की फल व सब्जियों का पूरा बाजार ही सड़क पर लग रहा है आलम यह है कि इनकी वजह से मवेशियों का भी जमावड़ा इसी सड़क पर बना रहता है ऐसे में यहां से गुजर ना काफी खतरनाक होता जा रहा है रोजाना यहां घटना दुर्घटनाएं हो रही हैं प्रशासन को भी इसकी इत्तिला दी गई है बावजूद प्रशासन कान में तेल डालें कुछ करने सुनने को तैयार नहीं है बताया तो यह भी जाता है की यहां फल दुकानदारों को बकायदा नगरीय प्रशासन ने दुकान दे रखा है बावजूद ज्यादा कमाई के चक्कर में ठेके पर कर्मचारी रखकर अपनी दुकानदारी सड़क पर करवा रहे हैं। जिन पर प्रशासन भी रहम खा रहा और ऐसे लोगों के चक्कर में शहर की सूरत तो बिगड़ ही रही है आम लोगों का चलना फिरना भी दूभर हो गया है। यही हाल न्यायालय तहसील जिला चिकित्सालय के सामने का है जहां दुकानदारों के बेजा कब्जा लोगों के लिए किसी मुसीबत से कम नहीं है पलक झपकते ही ऐसे जगहों पर आम लोग घटना दुर्घटना के शिकार हो जा रहे हैं। जिसको प्रशासन नहीं देख पा रहा है तो इसकी शिकवा शिकायत भी हो रही है मगर कार्रवाई शून्य है।

*फल दुकानदार के चक्कर में नवयुवक हुआ दुर्घटना का शिकार*

पुराना बस स्टैंड के सामने बुधवार को एक ऐसी घटना घटी जिसमें एक स्कूटी सवार नवयुवक दुर्घटना का शिकार हो गया और वजह वजह फल दुकानदार बना।बताया जाता है कि नवयुवक स्कूटी से अपने रास्ते सामान्य गति से जा रहा था इसी बीच एक फल दुकानदार ने मवेशी को डंडे से हांक रहा था और मवेशी अचानक नवयुवक के स्कूटी के सामने आ गया और स्कूटी सवार गिर पड़ा जिससे उसे काफी चोटें आई फल दुकानदार इस घटना को देखता रहा मगर उसकी मानवता नहीं जागी की वह नवयुवक को उठाकर चिकित्सालय पहुंचाये, कुछ राहगीरों ने तत्काल युवक को चिकित्सालय पहुंचा कर उसका इलाज करवाया।

*यातायात पुलिस से उठा लोगों का भरोसा*

काफी दिनों बाद पुलिस प्रशासन ने यातायात व्यवस्था को सुधारने बदलाव किया लोगों को एक आस भी बनी की शहर की यातायात व्यवस्था में अब सुधार देखने को मिलेगा मगर वही ढाक के तीन पात बनी हुई है न कोई बदलाव दिखा और नहीं शहर की सड़कें सुरक्षित हो पा रही हैं।यहां तक की पुराना बस स्टैंड और कोतवाली के सामने ही बेतरतीब ऑटो टैक्सी वाले सड़क पर यात्री उतारते चढ़ाते रहते हैं और सड़क घेरे वाहने खड़ी कर दे रहे हैं पर क्या मजाल की यातायात पुलिस इन पर कार्रवाई कर दे!यही हाल जिला चिकित्सालय के सामने का है बाकी भीड़ भाड़ वाली हर जगह बेतरतीब खड़ी वाहन दुर्घटनाओं को खुलेआम आमंत्रण दे रही हैं और यातायात पुलिस तमाशबीन बनी हुई है,ऐसे में आम लोगों का भरोसा भी यातायात पुलिस से उठ चुका है कि शहर की सड़कों को वे सुरक्षित रख पाएँगे जिससे आम लोग आसानी से सफर कर सकें।

error: Content is protected !!