सड़कों की सफाई कर कर्मचारी कचरे में लगा रहे आग…..

 

 

सीतापुर, रिंकु सोनी

सीतापुर शहर की प्रमुख सड़कों पर सफाई तो कराई जा रही है लेकिन सफाई कर्मचारी कचरे के ढेराें में आग लगाकर जला रहे हैं।
दिन-रात के समय सड़कों पर जमा कचरे की सुबह ऐसी सफाई होती है, कि उसे एक जगह पहले एकत्रित किया जाता है। फिर उसमें आग लगाकर उसे वहीं नष्ट किया जा रहा है। जिसकी राख और जले हुए कचरे को वहीं छोड़ दिया जाता है। उसे बाहर फिकवाने के कोई इंतजाम नहीं हैं। सड़क किनारे रहने वाले दुकानदार, रहवासी और सुबह से घूमने आने वाले सैकड़ों लोग भी लंबे समय से इस असुविधा से परेशान हैं। वहीं नपा अधिकारी इस ओर कोई ध्यान ही नहीं दे रहे हैं। यह सिलसिला पिछले कई माह से चल रहा है। दरअसल नगर पालिका प्रशासन द्वारा शहर की स्वच्छता को लेकर बाकायदा सफाई प्लान बनाया गया है।
हर वार्ड आैर सड़क पर सफाई के लिए कर्मचारियों की ड्यूटी चार्ट भी बनाया गया है। अभियान को लेकर शासन स्तर से नपा को 13 टिपर कचरा वाहन उपलब्ध कराए गए हैं। जिनके माध्यम से घराें का कचरा और सड़कों पर फैला कचरा एकत्रित कर उसे टेचिंग ग्राउंड फिकवाए जाने की व्यवस्था बनाई गई है।

ट्रैक्टर-ट्रॉली,ई-रिक्शा,रिक्शा भी सफाई को लेकर उपलब्ध कराया गया है। इसके बाद भी नपा के सफाई कर्मचारी प्रतिदिन सुबह शहर की सड़कों पर फैले कचरे की सफाई को लेकर बड़ी लापरवाही बरत रहे हैं।

कर्मचारी पहले झाडू से सफाई कर पहले कचरे के छोटे-छोटे ढेर बनाते हैं, जिसमें पॉलिथिन, प्लास्टिक, रबड़, कागज सहित अन्य अपशिष्ट सामग्री रहती है, उसे वे बारी- बारी से जलाकर नष्ट करते हैं। सफाई कर्मचारी ऐसा प्रतिदिन सुबह भी सफाई कर्मचारी ठीक जहां शहर के मार्गों की ओर सड़कों पर जमा कचरे की सफाई करने जुट गए। एक सड़क पर दो-दो सफाई कर्मचारियों ने झाडू लगाते हुए सफाई की, लेकिन हर सड़क पर सफाई कर्मचारियों ने सफाई करते हुए कचरे के छोटे-छोटे ढेर बनाए, इसके बाद बारी-बारी से उन्हें आग के हवाले कर दिया। लेकिन जलने के बाद जले कचरे और राख को कहीं नहीं फिकवाया। जस की तस हालत में जला कचरा सड़क किनारे ही पूरे दिन पड़ा रहता है।

error: Content is protected !!