वाड्रफनगर जनपद पंचायत के सभाकक्ष में महिलाओं के अधिकारों से संबंधित विधिक जागरूकता कार्यक्रम का किया गया आयोजन….

वाड्रफनगर जनपद पंचायत के सभाकक्ष में महिलाओं के अधिकारों से संबंधित विधिक जागरूकता कार्यक्रम का किया गया आयोजन
ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए समान अधिकार दिलाने में विधिक जागरूकता कार्यक्रम कारगर – न्यायाधीश रेशमा बैरागी
वाड्रफनगर ,,, अब्दुल रशीद
विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष सिराजुद्दीन कुरैशी के मार्गदर्शन में वाड्रफनगर जनपद पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित महिलाओं के अधिकारों से संबंधित विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव श्रीमती रेशमा बैरागी ने महिलाओं के अधिकार को लेकर अपने वक्तव्य में कहा कि अब ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को भी सम्मान अधिकार एवं आगे बढ़ने के अवसर मिलने चाहिए। इसके लिए विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक से अधिक हो इसके लिए पहल करने की आवश्यकता है और महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए किसी भी तरह से दबने एवं अन्याय अत्याचार सहने का समय नहीं है यदि आपके साथ गलत होता है तो आप उसकी आवाज उठाइए और इसकी प्राथमिकी संबंधित थाना चौकियों में अवश्य कराइए। कहीं किसी भी तरह का पीड़ित पक्ष को दिक्कत होता है तो आप विधिक सेवा प्राधिकरण तालुका समिति के पीएलवी से संपर्क कर संबंधित अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। साथ ही न्यायालय से जुड़े किसी भी तरह के सूचना तामिली के बाद न्यायालय को अवगत कराने से नहीं घबराना चाहिए राष्ट्रीय लोक अदालत के महत्व को समझाते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव ने कहां की आप सभी को अपने आसपास में हो रहे अन्याय अत्याचार से जुड़े मामले को जो समझौता योग है। उन्हें आगामी आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत 12 नवंबर 2022 को अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर पीड़ित एवं पक्षकार दोनों के आपसी रजामंदी से प्रकरणों को निराकृत कराने में भी अपनी भूमिका विधिक जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से सफल बनाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त यदि सीधे तौर पर जिला प्राधिकरण विधिक सेवा समिति से अपनी बात रखनी है तो आप टोल फ्री नंबर 15100 पर डायल कर जुड़ सकते हैं एवं नि:शुल्क अधिवक्ता एवं परामर्श की सुविधा ले सकते हैं। जागरूकता के अभाव में अधिकतर लोग अभी वंचित हैं महिलाओं के अधिकार से संबंधित विषयों पर शार्ट फिल्म का भी चल चित्रण किया गया जिसमें प्रमुख रूप से घरेलू हिंसा नाबालिक के ऊपर अत्याचार एवं शोषण टोनही प्रताड़ना जैसे विषयों पर इस कार्यक्रम में दिखाया गया है। महिलाओं से संबंधित अधिकार विधिक जागरूकता कार्यक्रम में अपना सामाजिक सेवा समिति के अधीनस्थ कार्य कर रही स्वयंसेवी महिला ग्रामीण कार्यकर्ताओं ने ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को जागरूक करने संबंधित नाटक प्रस्तुत किए जिससे प्रभावित होते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव एवं न्यायाधीश रेशमा बैरागी ने अपने उद्बोधन में स्वयंसेवी ग्रामीण महिला कार्यकर्ताओं को महिला जागरूकता के लिए सेतु के समान माना है दरअसल यह महिलाएं ग्रामीण क्षेत्रों में रहकर महिलाओं से जुड़े अपराधों से रूबरू होती हैं जिन्हें उजागर करने एवं उनके हक अधिकार को दिलाने के साथ-साथ कानूनी जानकारी देकर महिलाओं को समाज में समानता की श्रेणी में लाने में अहम भूमिका निभा सकती हैं महिलाओं के अधिकारों के संबंध में आयोजित कार्यक्रम की शुरुआत से दीप प्रज्वलित कर उपस्थित अतिथियों के सानिध्य में हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता वाड्रफनगर विधिक तालुका सेवा समिति के अध्यक्ष सतीश खाखा ने की विधिक महिला जागरूकता कार्यक्रम में अपना सामाजिक सेवा समिति के स्वयंसेवी ग्रामीण जागरूकता कार्यकर्ता महिलाओं के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम के तहत स्वागत गीत, बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ के थीम पर सुंदर सा नाटक की प्रस्तुति दिया गया। जिससे कार्यक्रम में जागरूकता के साथ-साथ महिलाओं का उत्साहवर्धन एवं राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के सौजन्य से प्राप्त पुस्तक जो महिलाओं से संबंधित कानून का संग्रह है उसे महिला कार्यकर्ताओं को उपस्थित अतिथियों के हाथों वितरित किया।
इस कार्यक्रम में विशेष अतिथि के रुप में श्रीमती चंद्रिका अनिल विश्वकर्मा,महिला अधिवक्ता रामानुजगंज से किरण यादव एवं कंचन लता कुशवाहा वाड्रफनगर, एएसआई मंजू रानी तिवारी थाना बसंतपुर, डॉक्टर तरुणी प्रधान एवं डॉक्टर नोविषा एक्का चिकित्सा अधिकारी सिविल अस्पताल वाड्रफनगर, पीएलवी नेहा कुशवाहा , आंगनबाड़ी कार्यकर्ताएं, शिक्षिकाएं एवं स्वास्थ कर्मचारीयों के साथ-साथ अपना सामाजिक सेवा समिति के स्वयंसेवी महिला ग्रामीण कार्यकर्ताएं शामिल रहीं।
जिला प्रतिनिधि बलरामपुर